ग्राम सकतपुर तहसील अटरू जिला बारां 
19 फरवरी मंगलवार

मेघवाल समाज की सामाजिक पंचायत ग्राम सकतपुर के बारह गावो के द्वारा
बाबा रामदेव महाराज की विधि विधान से प्राण प्रतिष्ठा की गई

मेघवाल समाज बाबा रामदेव मन्दिर सिमिति के अध्यक्ष हीरालाल मेघवाल नेताजी,  कोधाध्यक्ष पटेल जगन्नाथ मेघवाल,उपकोषाध्यक्ष रामकिशन मेघवाल,सदस्य मोहनलाल मेघवाल,मथरालाल मेघवाल,द्वारकीलाल मेघवाल ने बताया कि एक दिन पूर्व बाबा रामदेव की भव्य शोभायात्रा निकाली गई जिसमें महिला,पुरषो, युवाओ द्वारा बाबा के भजनों पर जमकर नृत्य किया गया और रात्रि को बाबा रामदेव महाराज का भव्य जागरण किया गया!जिसमे प्रतिष्टित सन्तो ने बाबा के भजनों का गुणगान किया
 आज सुबह विधि विधान से हवन यज्ञ किया गया जिसमें मुख्य यजमानों ने सपत्नी हवन किया

राष्ट्रीय मेघवाल युवा परिषद के कोटा महामन्त्री ओर आयोजन सिमिति सदस्य भवानीशंकर मेघवाल ने बताया कि प्राण प्रतिष्ठा और महायज्ञ के भव्य आयोजन में मुख्य अतिथि के रूप में विद्यायक पानाचंद मेघवाल,पूर्व विधायक रामपाल मेघवाल सहित द्वारा सम्बोधित किया गया 

इस अवसर पर राष्ट्रीय मेघवाल युवा परिषद के प्रदेशाध्यक्ष नन्दलाल केसरी,प्रदेश महामंत्री हनुमान मेघवाल,कोटा जिलाध्यक्ष ओम गन्दोलिया,कोषाध्यक्ष रामप्रसाद जादम,उपाध्यक्ष बाबूलाल चोमा,संघठन मन्त्री राधेश्याम मेघवाल,शिक्षा प्रभारी धर्मेंद्र मेघवाल,प्रदेश कार्य सिमिति सदस्य घासीलाल मेघवाल,सचिव अरविंद मेघवाल,कोटा छात्र प्रभारी सियाराम नुगरिया सहित द्वारा प्रत्येक समाज बन्धु को चूड़ी प्रथा को पूरी तरह बन्द करने और मृत्यूभोज को नगण्य करने की अपील के पम्प्लेट वितरित किये ओर सभी को विस्तार से इन कुप्रथाओं से होने वाले लाखो रुपये के नुकसान की जानकारी दी गई! इसके बाद समाज द्वारा बनाये नियमो का पालन करने का सभी समाज बन्धुओ से संकल्प करवाया गया!
सभी अतिथियों- पदाधिकारियो,समाज के गणमान्य समाज सेवको,सन्तजनों का समिति के सदस्य प्रेम बिहारी मेघवाल,विष्णु मेघवाल,बनवारी मेघवाल,सियाराम नुगरिया द्वारा माल्यार्पण करके भव्य स्वागत सम्मान किया गया!

इस अवसर पर मेघवाल युवा परिषद के संस्थापक नन्दलाल केसरी ने मृत्यूभोज पर कटाक्ष करने वाला भजन सुनाया जिसका सभी ने ताली बजाकर जोरदार सराहना करते हुए स्वागत किया 

आयोजन में कोटा, बारां,बूंदी,झालावाड़ सहित राजस्थान के अनेक स्थानों से दस हजार से अधिक महिला पुरषो ने उत्साह से भाग लिया!

अंत मे बाबा की महाप्रसादी का वितरण किया गया।